विशिष्टता की पहचान – सम्मान

​जहाँ के निवासियों की भाषा-भेषज-भोजन समान नहीं है, ऐसे प्रांत और क्षेत्र राष्ट्र की अखंडता में कोई योगदान नहीं देते|

Read more

संस्कृति रक्षण की दो धाराएं – शास्त्र और शस्त्र

​संस्कृति रक्षण के लिए दोनों अनिवार्य हैं – शास्त्र और शस्त्र परंतु लक्ष्य एक ही है संस्कृति रक्षण । आदमी

Read more

वेदों व वैदिक यज्ञों में हिंसा निषेध

वेदों में मेध , आलभन आदि शब्दों को लेकर कई हिंसात्मक भ्रांतियां फैलाई गयी हैं |  निघंटु मे मेध यज्ञ

Read more

ब्राह्मण और ब्राह्मणत्व : आदर्श एवं इसकी गरिमा

|| ब्राह्मणत्व जगेगा तो राष्ट्र जगेगा || वज्रसुचिकोपनिषद के प्रारम्भ में ही ब्राह्मण कौन है इससे सम्बंधित प्रश्न पूछे गये

Read more

वैदिक चिकित्सा विज्ञान

वेद  ज्ञान  के  अक्षय  स्रोत हैं । वेदों में निहित ज्ञान सम्पदा अनंत व अद्भुत है । वेदों की ऋचाओं

Read more

पुनर्जन्म का दर्शन : 1

भौतिक जगत् का पहला आध्यात्मिक रहस्य है जन्म, और मृत्यु है दूसरा जो जन्म के रहस्य को दोगुना चकरानेवाला बना

Read more

वेदांत दर्शन : एक संक्षिप्त परिचय

भारतीय चिंतन धारा में जिन दर्शनों की परिगणना विद्यमान है, उनमे शीर्ष स्थानीय दर्शन कौन सा है ? ऐसी जिज्ञासा

Read more

ब्राह्मण कौन है ? – ( वज्रसूचि उपनिषद् )

वज्रसुचिकोपनिषद ( वज्रसूचि उपनिषद्  ) यह उपनिषद सामवेद से सम्बद्ध है ! इसमें कुल ९ मंत्र हैं ! सर्वप्रथम चारों वर्णों

Read more

भारतीय कर्मकाण्ड-परम्पराएँ एवं पूजा-पद्धति

कर्मकाण्ड यज्ञ-संस्कार आदि कर्मकाण्ड भारतीय ऋषि-मनीषियों द्वारा लम्बी शोध एवं प्रयोग-परीक्षण द्वारा विकसित असामान्य क्रिया-कृत्य हैं । इनके माध्यम से

Read more

क्या स्त्रियों को वेदाधिकार नहीं है ?

इस विषय पर मैं पाठकों का ध्यान कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों की ओर दिलाना चाहता हूँ :-   १.  जब  ऋग्वेद के

Read more

Biological Achievements of Ancient India

Medical science was far advanced during ancient times of the Vedas, the Mahabharata and the Puranas. It is proved with

Read more

संस्कृत भाषा का महत्व

संस्कृत देवभाषा है ! यह सभी भाषाओँ की जननी है ! विश्व  की समस्त भाषाएँ इसी के गर्भ से उद्भूत

Read more

दंडायण ( Truth about Diogenes )

“उस दरिद्र ने बुलाया है मुझे !’ कहने के साथ ठठाकर हंस पड़ा ! पास खड़े तीनों सैनिक उसे आँखें

Read more

शक्ति का स्रोत पदार्थ से परे है

अधिकांश वैज्ञानिकों का मत है कि संसार केवल भौतिक पदार्थों का या प्रकृति की ही रचना है ! उसके मूल में कोई ऐसी

Read more

What is time? (समय अर्थात घटना)

हम विश्व के यथार्थ को क्यों नहीं समझ पाते ? महाअणुविज्ञानी आइन्स्टीन अपने सापेक्षवाद सिद्धांत के द्वारा उत्तर देते हैं

Read more